गुरुवार, 25 नवंबर 2010

हंसी

मैं
कभी
याद आऊं

और तुम
भावुक हो उठो,

तो
अपनी आँखें
मूंदकर

मन-ही-मन
एक बार
मेरा नाम लेना

और
याद करना कि

मुझे
तुम्हारी हंसी

कितनी प्यारी है,
और मेरा
दावा है कि

तुम्हारे
होठों पे
वो हंसी

फिर से
छा जाएगी

कोई टिप्पणी नहीं: