गुरुवार, 20 जुलाई 2017

तेरा इन्तजार

मैं जानता हूँ कोई नहीं
                 आ रहा फिर भी,
जाने क्यों देखता हूँ
                 मुड़-मुड़ के बार-बार |

एक हूक सी उठती है
                 हर साँस में मेरी,
दिल जोर से धड़के है,
                 मेरा होके बेकरार |

कभी जोर से धड़के है
                 कभी बैठ सा जाये,
दीवानगी पे दिल के-
                 नहीं मेरा इख़्तियार |

तुझे पा नहीं सकता हूँ
                 मुझे इसका इल्म है,
तुझे चाहते रहने का
                 तो हक़ है हजार बार |

आहट हुयी कहीं तो-
                 लगता है के तुम हो,
अब हर साँस में मेरे
                 है बस तेरा इन्तजार |