रविवार, 25 नवंबर 2007

...तुम हमारे थे!

मेरे गालों पर चमकते
आंसुओ के ये मोती,

या कहूं,

विरह की आग में दहकते
गरम पानी के दो बूँद,

गवाह हैं इस बात के,
कि कभी,

कि कभी....

तुम 'हमारे' थे!

कोई टिप्पणी नहीं: